Sunday, June 4, 2023
spot_img

पीडब्ल्यूडी की “जादू की छड़ी”: जारी हुआ डेढ़ करोड़ का बजट, एक ही दिन हुआ काम और भुगतान, चार निलंबित- पीडब्ल्यूडी में भ्रष्टाचार के आरोप में चार निलंबित


प्रतीकात्मक चित्र।
– फोटो : अमर उजाला

विस्तार

पीडब्ल्यूडी में बजट खर्च करने का अजीबोगरीब खेल सामने आया है। पूर्वांचल में बिहार सीमा पर स्थित सड़क के निर्माण के लिए 31 मार्च को 1.5 करोड़ रुपये का बजट जारी किया गया था. मौके पर काम दिखाकर उसी दिन भुगतान भी कर दिया गया। विभाग की इस ”जादू की छड़ी” के सामने आने पर सरकार ने सख्त रुख अख्तियार किया है। कार्यपालन यंत्री सहित चार अभियंताओं को निलंबित करने का निर्णय उच्च स्तर से लिया गया है.

गाजीपुर के निर्माण खंड में बिहार सीमा पर दिलदार नगर-देवल लिंक रोड है। इस सड़क के जीर्णोद्धार के लिए पिछले वित्तीय वर्ष के अंतिम दिन 31 मार्च को डेढ़ करोड़ रुपये जारी किए गए थे. एक फर्म को उसी दिन दो फर्जी बिल बनाकर भुगतान भी कर दिया गया। सरकार ने गाजीपुर के जिला प्रशासन से पूरे मामले की जांच कराई तो वित्तीय अनियमितता की पुष्टि हुई. हालांकि बताया जा रहा है कि जांच में मामला तूल पकड़ने के बाद स्थानीय इंजीनियरों ने भी आनन-फानन में मौके पर ही काम करा दिया.

इसे भी पढ़ें- यूपी में ‘द केरल स्टोरी’ टैक्स फ्री, 12 मई को पूरी कैबिनेट के साथ फिल्म देखेंगे सीएम योगी

इसे भी पढ़ें- दरिंदगी: आखिरी सांस तक बेटे का गला दबाता रहा विनोद, बेटी बोली- भाई हाथ-पांव हिला रहा था… पर पिता ने नहीं छोड़ा

योगी सरकार ने पूरे प्रकरण में भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाते हुए कार्यपालक अभियंता पतंजलि जी श्रीवास्तव, सहायक अभियंता अनिकेत गुप्ता व अवर अभियंता अमित यादव व शाहनवाज अहमद को निलंबित करने का निर्णय लिया है. उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार शासन स्तर से जल्द ही कार्यपालक व सहायक अभियंता को निलंबित करने का आदेश जारी किया जाएगा. वहीं दोनों अवर अभियंताओं को निलंबित करने के लिए पीडब्ल्यूडी मुख्यालय को पत्र लिखा जा रहा है. इन सभी इंजीनियरों के खिलाफ उचित प्रावधानों के तहत अनुशासनात्मक जांच भी की जाएगी।

बस्ती सड़क घोटाले में कार्रवाई के लिए रिमांइडर भेजा गया

बस्ती सड़क घोटाले में कार्रवाई के लिए भेजा अनुस्मारक बस्ती में 300 से अधिक सड़कें बनाने के घोटाले में तत्कालीन सहायक अभियंता अरविंद कुमार आर्य और विनय कुमार राम को बर्खास्त करने के लिए सरकार ने उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग को स्मरण पत्र भेजा. सरकार ने आठ जनवरी को इस संबंध में अपनी स्पष्ट सिफारिश के साथ प्रस्ताव भेजा था, लेकिन आयोग को अभी तक इस पर जवाब नहीं मिला है.


Source link

RELATED ARTICLES
- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments